रूस-यूक्रेन जंग में अगले 24 घंटे अहम, पुतिन की परमाणु धमकी से लेकर चेर्नोबिल में चर्चा की तैयारी तक, 10 बिंदुओं में पढ़िये बड़ा घटनाक्रम

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Published by: सुरेंद्र जोशी
Updated Mon, 28 Feb 2022 07:51 AM IST

सार

रूस-यूक्रेन के बीच यह महत्वपूर्ण बातचीत बेलारूस सीमा पर स्थित चेर्नोबिल परमाणु संयंत्र स्थल के पास जल्द होने की संभावना है। 10 बिंदुओं में जानते हैं अब तक का प्रमुख प्रमुख घटनाक्रम : 

ज़ेलेंस्की, पुतिन और बाइडन
– फोटो : Graphics- Harendra

ख़बर सुनें

विस्तार

पांच दिन से जारी रूस-यूक्रेन जंग में अगले 24 घंटे अहम हैं। दोनों देशों की सेनाओं को जंग में भारी नुकसान उठाना पड़ा है। पश्चिम देशों के बढ़ते दबाव के बाद रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने अपनी परमाणु सेना को तैयार रहने का संदेश दे दिया। वहीं सोमवार को खार्किव व कीव में शक्तिशाली धमाकों से यूक्रेन थर्रा उठा। इस बीच अच्छी बात यह है कि युद्धरत दोनों देश चेर्नोबिल में चर्चा के लिए तैयार हो गए हैं। हालांकि अभी यह कहना मुश्किल है कि इससे जंग थम जाएगी। 

रूस-यूक्रेन के बीच यह महत्वपूर्ण बातचीत बेलारूस सीमा पर स्थित चेर्नोबिल परमाणु संयंत्र स्थल के पास जल्द होने की संभावना है। 10 बिंदुओं में जानते हैं अब तक का प्रमुख प्रमुख घटनाक्रम : 

  1. यूक्रेन ने रूस के साथ चर्चा पर रविवार को सहमति जताई। यह चर्चा बेलारूस सीमा के पास हो सकती है। इससे पहले पुतिन ने अपनी परमाणु सेना को तैयार रहने का निर्देश देकर यूक्रेन व पश्चिम देशों को भी परोक्ष धमकी दे दी थी।
  2. पुतिन ने पश्चिम देशों पर आरोप लगाया कि ये देश रूस के खिलाफ शत्रुतापूर्ण व्यवहार कर रहे हैं। इसके साथ ही रूसी राष्ट्रपति ने देश के रक्षा मंत्री व सेना प्रमुख को आदेश दिया कि वे परमाणु सेना को तैयार करें।
  3. रूसी सेना अब तक करीब 50 फीसदी यूक्रेन में घुस चुकी है। भारी बमबारी के बीच यूक्रेन भी पलटवार कर रहा है। 
  4. पुतिन की परमाणु तैयारी के एलान के तत्काल बाद यूक्रेन ने घोषणा की कि वह रूस के साथ बातचीत के लिए तैयार है। इससे पूर्व बेलारूस के नेता अलेक्जेंडर लुकाशेंको ने यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की से फोन पर बात की थी।
  5. चर्चा के प्रस्ताव पर सहमति जताते हुए राष्ट्रपति जेलेंस्की ने कहा कि उन्हें इस बातचीत से ज्यादा उम्मीद नहीं है, लेकिन कोशिश करने दीजिए। इसके साथ ही जेलेंस्की ने यह भी कहा कि देश के किसी नागरिक को यह शंका नहीं होना चाहिए कि वह युद्ध रोकने की कोशिश कर रहे हैं। 
  6. इससे पहले यूक्रेन ने बेलारूस में बातचीत के रूस के प्रस्ताव को सिरे से खारिज कर दिया था। बेलारूस में वह चर्चा को तैयार नहीं था, क्योंकि इसी रास्ते रूसी सेना ने यूक्रेन पर धावा बोला है। यूक्रेन चाहता था कि प्रस्तावित चर्चा वारसा, बुडापेस्ट, इस्तांबुल या बाकू में से कहीं हो। 
  7. रविवार को यूक्रेन ने रूसी हमले के खिलाफ हेग स्थित अंतरराष्ट्रीय अदालत में भी केस दायर कर दिया।
  8. यूरोपीय संघ के एक अधिकारी का कहना है कि रूस यूक्रेन में घिर गया है। उसे एक छोटे से देश यूक्रेन व उसकी सेना के कड़े प्रतिरोध का सामना करना पड़ गया है। इससे पुतिन गुस्से में हैं। रूसी सेना को अब तक राजधानी कीव में घुसने नहीं दिया गया है।  यूरोपीय संघ ने एलान कर दिया है कि वह रूसी विमानों को अपने आकाश से नहीं उड़ने देगा और यूक्रेन को हथियार खरीदने के लिए फंडिंग करेगा। 
  9. जर्मनी व उसके सहयोगी देशों ने भी रूस के लिए त्वरित भुगतान सेवा को बंद करने पर सहमति जताई है। वह रूस के खिलाफ यूक्रेन की सेना की मदद करेगा और कीव को हथियार देगा। यह रूस के लिए बड़ा झटका है। 
  10. यूक्रेन भी पूरी ताकत से रूसी सेना का सामना कर रहा है। रविवार को उसने दावा किया कि उसने रूस के 3500 सैनिकों को मार गिराया है और 200 को युद्ध बंदी बना लिया है। हालांकि रूस ने इस दावे का खंडन किया है। यूक्रेन के 352 नागरिकों की रूसी हमलों में मौत की खबर है। इनमें 14 बच्चे शामिल हैं। अब तक 1684 लोग घायल हुए हैं। इनमें 116 बच्चे हैं। 

Leave a Comment

Your email address will not be published.